पटना के अलावा बिहार के अन्य शहरों में मेट्रो का निर्माण क्यों नहीं हो सकता है, जानिए

0
130

भारत में सबसे पहली बार मेट्रो कोलकाता में 24 अक्टूबर 1984 में चला गया था वहीं अगर देखा जाए तो राजधानी पटना में पटना मेट्रो निर्माण की नीव 14 सितंबर 2011 को रखी गई थी और अभी इसका निर्माण तेजी गति से किया जा रहा है लेकिन एक बड़ा सवाल आपके दिमाग में जरूर आता होगा कि बिहार के और शहरों में मेट्रो क्यों नहीं बनाए जा सकते हैं तो इसी सवाल के जवाब आज आपको इस दूंगा।

भारत के शहरों में क्या है मेट्रो निर्माण का नियम

सबसे पहला सवाल तो आता है कि राजधानी पटना के अलावा मुजफ्फरपुर, भागलपुर, गया, दरभंगा इन सभी शहरों में भी मेट्रो क्यों नहीं बनाए जा सकते है। इसके लिए सबसे पहले आपको जानने की जरूरत है कि सरकार की तरफ से मेट्रो चलाने के लिए जो नियम है उसपर मोटे तौर पर नज़र डाले तो सबसे पहला नियम यह कहता है की भारत के शहरों के लिए शहर की जनसंख्या 10 लाख के करीब होनी चाहिए इसके साथ नियम की कई बड़ी लिस्ट है जिसमे शहर की तेज गति से विकास होना भी महत्वपूर्ण है।

बिहार का कौन शहर उतरता है इन पैमानो पर

बिहार में मेट्रो निर्माण के लिए राजधानी पटना के अलावा बिहार के और शहरों की जनसंख्या देखी जाए तो मुजफ्फरपुर की जनसंख्या करीब करीब चार लाख के आसपास है वही गया की जनसंख्या की बात करें तो गया की जनसंख्या अभी 5 लाख के आसपास है वही भागलपुर की जनसंख्या की बात करें तो भागलपुर की जनसंख्या 4 लाख के आसपास है वही दरभंगा की जनसंख्या की बात करें तो दरभंगा की शहरी जनसंख्या 2 लाख 94 हजार है।

बिहार में पटना के आलावा इन शहरों में मेट्रो निर्माण पर नजर डाले तो इन सभी आंकड़ों के अनुसार अगर देखा जाए तो भारत में मेट्रो बनाने के लिए शहरों के लिए जो नियम बनाई गई है उनके अनुसार मुजफ्फरपुर, भागलपुर, गया और दरभंगा जैसे बिहार के यह शहर इन मानकों पर नहीं उतरता जिस वजह से बिहार के इन शहरो में मेट्रो का निमार्ण नहीं किया जा सकता।

वह राजधानी पटना की बात करें तो राजधानी पटना की जनसंख्या अभी 16 लाख है जिस वजह से पटना शहर इन मानकों पर खड़ा उतरता है जिस वजह से पटना में मेट्रो का निर्माण शुरू है अभी और उन शहरों की लिस्ट में राजधानी पटना सुमार हो चुका है जहां पर मेट्रो आने वाले समय में आपको दिखेगा।