पटना को मिलेगा जलजमाव से निजात, 957 करोड़ की योजना की मिली मंजूरी, जानिए किन इलाकों को मिलेगा लाभ

0
176

जैसी ही मानसून आता है बिहार के कई शहर जल जवाब होने लगता हैं। चाहे वह राजधानी पटना हो मुजफ्फरपुर हो भागलपुर हो या बिहार का कोई अन्य शहर हर शहर में जल जमाव एक आम समस्या है इसी को देखते हुए अब पटना को जलजमाव से निजात दिलाने के लिए अब कैबिनेट ने 957 करोड़ रुपए की मंजूरी दे दी है। इससे राजधानी पटना के विभिन्न इलाकों में कई परियोजना पर काम किया जाएगा ताकि राजधानी पटना के लोगों को जलजमाव से छुटकारा मिल सके।

दरअसल आपको बता दूं कि कैबिनेट ने पटना शहर को हर वर्ष बारिश से होने वाले जलजमाव से बचाने को लेकर पटना के विभिन्न नगर निकाय दानापुर और फुलवारी शरीफ नगर निकायों में जल निकासी संरचनाओं के निर्माण पर 957 करोड खर्च करने की मंजूरी दे दी है। पटना शहर के पटेल नगर पाटलिपुत्र बोरिंग रोड समेत कई इलाकों के लगभग 1912 हेक्टेयर क्षेत्र में जल निकासी के लिए 115.67 करोड़ खर्च किए जाएंगे।

इसके साथ ही चितकोहरा, वृंदावन कालोनी, मगध कालोनी, साधनापुरी, आईओसीएल, एतवारपुर, बेऊर, आदर्श नगर, गायत्री नगर और सिपारा क्षेत्र के लगभग 3046 हेक्टेयर क्षेत्र में जल निकासी के लिये 116.09 करोड़ खर्च किये जाएंगे। वहीं पटना बायपास रोड के दक्षिण नयाचक, बादशाही नाला समेत कई इलाकों में लगभग 1404 हेक्टेयर क्षेत्र में जल निकासी के लिये 59.11 करोड़ खर्च किये जाएंगे।

इसके साथ साथ आपको यह भी बता दूँ की राजाबाजार, आशियाना नगर, जगदेव पथ, यादव कालोनी, दीघा, राजीवनगर, निराला नगर, कुर्जी नाला, रुपसपुर और सबरीनगर क्षेत्र के लगभग 2097 हेक्टेयर क्षेत्र में जल निकासी के लिये 112.89 करोड़ खर्च किये जाएंगे। इसके आलावा भिखना पहाड़ी, राजेन्द्र नगर, आरसी मार्केट, मछुआ टोली, सैदपुर, सुलतानगंज, अरफाबाद कालोनी, दुर्जा कालोनी,  बहादुरपुर और महाराजगंज इलाके में जल निकासी के लिये 45.66 करोड़ रुपये खर्च किये जाएंगे।

इसके साथ साथ आपको यह भी बता दूँ की पटना के खगौल रेलवे कालोनी, लखनीबीघा, सरगी, खेदरपुर,नासीनपुर,जगदेव कालोनी, कुशनपुरम् कालोनी, बड़ी खगौल, बबक्करपुर, ढिबरा, उर्सी, आसोपुर, रामपुर, मंगला कालोनी, न्यू मैनपुरा, न्यू एजी कालोनी, विजय बिहार कालोनी, आईएएस कालोनी, आरपीएस, आनंद बाजार समेत कई मोहल्लों में 258.31 करोड़ तो फुलवारीशरीफ के 1068 हेक्टेयर क्षेत्र में जल निकासी के लिये 67.85 करोड़ खर्च होंगे।​​​​​​​