सिंगापुर से लौट पटना कि इस लड़की ने ऐसे खड़ा कर दिया करोड़ों की बिजनेस

0
709

बिहार में फैक्ट्री की अब भी कम है लेकिन बिहार में धीरे-धीरे उद्योग धंधे फल फूल रहे हैं आपको बता दूं कि बिहार के कई युवा अब अपना स्टार्टअप शुरू करने पर ज्यादा भरोसा कर रहे हैं। असर बिहार में माता पिता अपने बच्चों को बेहतर भविष्य के लिए सरकारी नौकरी का रास्ता चुनते है या तो बड़े-बड़े कॉलेज और यूनिवर्सिटी में पढ़ा कर उन्हें नौकरी करने की सलाह देते हैं कुछ ऐसा ही हुआ राजधानी पटना की रहने वाली इस लड़की के साथ जिसे एमबीए करने के लिए सिंगापुर भेजा गया लेकिन उन्होंने यह की जॉब छोड़कर बिहार लौट आए और आज उन्होंने करोड़ों की कंपनी खड़ा कर दी है।

हम बात कर रहे है राजधानी पटना की रहने वाली आकृति वर्मा की आकृति वर्मा का जन्म बिहार के एक मिडिल क्लास फैमिली में हुआ उनके पिता माता पिता शुरू से उन्हें डॉक्टर बनाना चाहते थे लेकिन आकृति वर्मा की कुछ और ही ख्वाहिश थी उन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी से पढ़ाई की जिसके बाद उन्होंने एमबीए करने के लिए सिंगापुर से एमबीए करके और वहां जॉब करने लगी लेकिन उनका शुरू से सपना था बिहार में एक बड़ा फैक्ट्री लगाना जिसके बाद आकृति वर्मा सिंगापुर में एक अच्छी जिंदगी और नौकरी छोड़कर वापस पटना आ गई।

पटना आने के बाद आकृति वर्मा ने राजधानी पटना में ही अपनी वॉल पुट्टी की कंपनी खरा की आपको बता दूं कि उनकी कंपनी क नाम एकेभी वॉल पुट्टी (akv putty) है। कंपनी में कई उतार-चढ़ाव आए एक समय ऐसा आया कि वह अपनी कंपनी में काम कर रहे हैं 11 कर्मचारियों को वेतन अपनी पॉकेट मनी से देती थी लेकिन सभी उतार-चढ़ाव के बाद उन्होंने अपनी कंपनी अब पूरी तरीके से खड़ा कर लिए हैं और वह हाल ही में एक करोड़ रुपए का टर्नओवर वाले ब्रांड में शामिल हो गई है।

इनकी प्रारंभिक जीवन की बात करें तो आपको बता दूं की आकृति वर्मा पटना के माउंट कार्मेल स्कूल से 2010 में 79 फ़ीसदी अंक के साथ 12वीं की पढ़ाई पूरी की अभी 30 साल की आकृति वर्मा कहती है कि मेरी मां मेरे लिए हमेशा बहुत रक्षात्मक रही है। हालांकि उनकी मां अब इस दुनिया में नहीं है और आकृति अपना मंजिल पानी है आकृति बताती हैं कि कभी भी रुकना नहीं चाहिए और हर मुश्किलों पर लड़कर आगे बढ़ना चाहिए।