बिहार बिजली कनेक्शन देने के मामले में फिर से नंबर वन विकसित राज्यों को पीछे छोड़ा जानिए

0
396

21वीं सदी में बिजली की सबसे ज्यादा जरूरत है चाहे वह टेलीविजन चलना हो या स्मार्टफोन इन सभी को चलाने के लिए बिजली की बेहद आवश्यकता होती है। इसी बीच अब बिहार में बिजली स्थिति दिन प्रतिदिन बेहतर होती जा रही है, नीति आयोग द्वारा जारी हालिया रिपोर्ट इसका विस्तार से उल्लेख किया है। यह रिपोर्ट बताती है कि 2015 से 2016 तक बिहार में सबसे अधिक लोग बिजली कनेक्शन से वंचित हुआ करते थे, लेकिन यह हालात पूरी तरह से बदल गया है। आपको बता दूं कि बदले हालात की वजह से उत्तर प्रदेश झारखंड समेत कई राज्यों को बिहार में पीछे छोड़ दिया है।

नीति आयोग की रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2015 से 2016 की स्थिति में 2019 से 2020 के हालात की तुलना किया जाए तो इसमें यह साफ पता चलता है कि 2015 से 16 में बिहार में 39.86% घरों में बिजली नहीं था। यह आंकड़ा उस समय देश के अन्य राज्यों से बहुत ही खराब था। वही अब 2019 से 2020 आते-आते बिहार की स्थिति में एक बड़ा बदलाव आया है। बिजली से वंचित घरों की प्रतिशत 39 से घटकर 3% पर आ गया है, आपको बता दूं कि अभी फिलहाल कई राज्यों में 3% से अधिक घर में बिजली कनेक्शन नहीं है रिपोर्ट की माने तो उत्तर प्रदेश में 9% असम में 7.4% झारखंड में 5.50% मेघालय में 8.10% घरों में अभी बिजली का कनेक्शन नहीं है।