जानिए कैसा होगा उत्तर प्रदेश में बनने वाला एशिया का सबसे बड़ा जेवर एयरपोर्ट, जानिए कब से उड़ेगी फ्लाइट

0
307

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट यानि जेवर एयरपोर्ट की नींव 25 नवंबर को रखी जाएगी। वही यह दुनिया का चौथा सबसे बड़ा एयरपोर्ट होगा। इसकी नीव पीएम मोदी रखने वाले हैं. वही जांनकारी के अनुसार, इस एअरपोर्ट के बाद दिल्ली देश का पहला शहर बन जाएगा, जहां 70 किमी की रेंज में तीन एयरपोर्ट होंगे। बता दे की यहाँ के 2  इंटरनेशनल एयरपोर्ट होंगे। दिल्ली और जेवर एयरपोर्ट से घरेलू उड़ान संचालित होती हैं।

जानिए कब से विमान भरने लगेंगे उड़ान बता दे की जेवर एयरपोर्ट के निर्माण में 29 हजार 650 करोड़ रुपए खर्च होंगे। वही यहां एक साथ 178 विमान खड़े हो सकेंगे। बताया जा रहा हैं की पहली फ्लाइट यहां से सितंबर 2024 में उड़ेगी। जेवर एयरपोर्ट बन जाने से दिल्ली एयरपोर्ट का एयर ट्रैफिक लोड कम हो जाएगा। वही यहाँ से करीब 35 हजार यात्री दिल्ली से नोएडा एयरपोर्ट की ओर शिफ्ट हो जाएंगे। दिल्ली एयरपोर्ट से जेवर की दूरी करीब 70 किमी है। वही फिलहाल दिल्ली एयरपोर्ट पर साल भर में 6.5 करोड़ यात्री यात्रा करते हैं वही अगले 5 साल में यह संख्या बढ़कर 10 करोड़ हो जाएगी। वही दिल्ली के एयर ट्रैफिक को नियंत्रित करने के लिए साल 2040 तक यहां पर 3 एयरपोर्ट होने चाहिए।

जानिए कैसा होगा जेवर एयरपोर्ट जेवर एयरपोर्ट 5845 हेक्टेयर जमीन पर बनेगा। हालांकि पहले चरण में इसका निर्माण 1334 हेक्टेयर जमीन पर होगा। फर्स्ट फेज में यहां दो यात्री टर्मिनल और दो रनवे बनाए जाएंगे। बाद में यहां कुल पांच रनवे बनेंगे। एयर ट्रैफिक बढ़ने पर इससे अधिक रनवे बनाए जा सकते हैं। इस हवाई अड्डे की क्षमता फिलहाल सालाना 9 करोड़ यात्रियों की होगी, जिसके साल 2050 तक 20 करोड़ होने का अनुमान है। पहले साल करीब 40 लाख यात्रियों की आवाजाही रहेगी। 2025-26 में यात्रियों की संख्या 70 लाख तक हो सकती है। घरेलू उड़ानों में 40 फीसदी मांग मुंबई, कोलकाता, बेंगलुरु, हैदराबाद व चेन्नई जैसी मेट्रो सिटी में आने-जाने वाले यात्रियों की है। इसलिए जेवर एयरपोर्ट से शुरुआत में 8 घरेलू उड़ानें शुरू की जाएंगी।