बिहार में सीएम नीतीश के दावों की खुली पोल, नीति आयोग की रिपोर्ट में पीछे हुआ बिहार, JDU सांसद के किए गए सवाल से सामने आया सच

0
510

बिहार में विकाश पुरुष कहे जाने वाले नीतीश कुमार से जुडी एक बड़ी खबर सामने आई हैं. जानकारी के अनुसार, बिहार के सीएम नीतीश कुमार के दावों की पोल बिहार के सामने खुलकर आ गई हैं. बता दे की नीति आयोग द्वारा जारी रिपोर्ट में कई पैमानों पर बिहार देश में पीछे नज़र आया हैं जो की बिहार के लिए चिंता की बात हैं. जानकारी के अनुसार, नीति आयोग की सतत विकास लक्ष्यों की भारत सूचकांक रिपोर्ट 2020-21 के अनुसार बिहार का स्कोर सभी राज्यों में सबसे कम है. जो की सीएम नीतीश के विकाश के दावों की पोल खोल रहा हैं.

बता दे की इस सम्बन्ध में सांख्यिकी और कार्यक्रम क्रियान्वयन मंत्री राव इंद्रजीत सिंह ने JDU ललन सिंह के सवाल के लिखित जवाब देते हुए बताया हैं. इसके साथ साथ ही बिहार को विशेष राज्य का दर्जा पर यह साफ़ कर दिया कि 14वें वित्त आयोग के अनुसार अब विशेष राज्य और सामान्य राज्य को मिलने वाले टैक्स शेयर के बंटवारे में कोई फर्क नहीं रह गया है. जिसके बाद बिहार को केंद्र के राजस्व में अब 32 की बजाय 42 फीसद हिस्सा मिल रहा है. इस कारण अब यह कोई बड़ा मुद्दा नही हैं.

इसी रिपोर्ट पर JDU के नेता राजीव रंजन सिंह ने संसद में केंद्र सरकार से पूछा था कि क्या बिहार सबसे पिछड़ा राज्य है और क्या केंद्र सरकार उसे विशेष राज्य का दर्जा देने पर विचार कर रही है. इस पर सांख्यिकी विभाग के मंत्री राव इंद्रजीत सिंह ने कहा कि इस रिपोर्ट में बिहार 100 में 52 के आंकड़े पर खड़ा है. यह सभी राज्यों में निम्नतम है. वैसे में इस समय बिहार को विशेष राज्य का दर्ज़ा नही दिया जा सकता हैं. बिहार में अभी भी मुलभुत सुविधा का आभाव हैं तो बिहार सरकार को चाहिए की वह अपने राज्य के विकाश पर ध्यान दे.