यह है बिहार की किसान चाची जो 150 रुपए में शुरू किया था काम, आज विदेशों में भी बेंचती हैं सामान दुनिया में एक अलग पहचान

0
712

बिहार राज्य के मुजफ्फरपुर जिले के आनंदपुर गांव की 65 साल की किसान चाची का नाम आज देश के उन बड़े महिला किसानों में की जाती है जिन्होंने अपनी संघर्ष और मेहनत के दम पर सफलता के आसमान को छुआ इसके साथ साथ समाज के अन्य महिला किसानों के लिए एक उदाहरण बनी उन्होंने महिलाओं के जीवन को बदलने का काम किया है इसके साथ में वह किसान चाची के साथ साथ 50 अन्य महिला किसानों की सफलता की कहानी को सुनेंगे और उनके अनुभव से सीखेंगे।

मुजफ्फरपुर की राजकुमारी देवी ने शुरू किया था अचार बेचना तो समाज ने कर दिया था बहिष्कार किसान चाची का असली नाम राजकुमारी देवी है वह बिहार के मुजफ्फरपुर जिले से ताल्लुक रखती हैं आज वह सफलता के मुकाम पर हैं पर एक समय ऐसा भी था जब उन्होंने गरीबी और तंगहाली में अपना जीवन गुजारा था कभी वह 150 रुपए से काम सुरु किया था  अपनी गरीबी और तंगहाली को दूर करने के लिए राजकुमारी देवी ने अपने घर में अचार बनाकर उसको साइकिल पर घूम घूम कर बेचना शुरू किया, लेकिन एक महिला के द्वारा किया जाने वाला यह कार्य हमारे समाज को मंजूर न था बताया जा रहा है कि पहले समाज के लोगों ने उनसे यह काम को बंद करने को कहा लेकिन जब उन्होंने अपने काम को बंद नहीं किया तो समाज ने उनका बहिष्कार कर दिया था।

आज विदेशों में होता है किसान चाची के प्रोडक्ट की सप्लाई, पीएम मोदी भी कर चुके हैं तारीफ कभी साइकिल पर जाकर अपनी अचार को बेचने वाली किसान चाची के प्रोडक्ट्स आज विदेशों में सप्लाई होते हैं लेकिन यह सफलता 1 दिन में नहीं मिली. बता दे कि किसान चाची का विवाह 1974 में हुआ लंबे समय तक संतान ना हो पाने के कारण उनके ससुराल वाले उनको खूब ताना दिया करते थे. जब 1983 में उनकी एक बेटी हुई तो ससुराल वालों ने बेटा ना हो पाने के कारण उन्हें खूब भला बुरा सुनाया फिर भी उन्होंने हार नहीं मानी और अपने पति के साथ खेती करना शुरू कर दिया खेती में उचित सफलता ना मिल पाने के कारण उन्होंने आचार मुरब्बा बनाना शुरू किया अपने इस व्यवसाय में उन्होंने कई वैज्ञानिक तकनीकों का इस्तेमाल किया जिसके बाद उन्हें सफलता मिलना शुरू हुआ।

बता दें कि 2003 में किसान मेले में उनके उत्पाद को पुरस्कार मिला था. जिसके बाद सीएम खुद उनके घर आए . बता दे कि अब किसान चाची के साथ 250 महिलाएं जुड़ी हैं, जो अचार-मुरब्बा तैयार करती हैं. अब वह साइकिल के बजाए स्कूटी से चलती हैं. इसके साथ ही अब उनके प्रोडक्ट विदेशों में निर्यात होते हैं. बता दें कि राजकुमारी देवी का तारीफ भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी कर चुके हैं. इसके साथ साथ साल 2006 में किसान चाची को किसान सम्मान से नवाजा गया. किसान चाची को साल 2015 में टीवी के प्रसिद्ध धारावाहिक कौन बनेगा करोड़पति में अमिताभ बच्चन ने भी आमंत्रित किया था. आज किसान चाची समाज की महिलाओं के लिए आदर्श बनी हुई है।