बिहार के किस जिले में कौन सी फैक्टिरी है आज जान लीजिए

0
1748

आज हम जानेंगे कि बिहार में उद्योग धंधे कहां कहां स्थापित हैं हम उनके स्थान के बारे में जानेंगे और कौन-कौन से कारखाने बिहार में स्थित है इसकी भी जानकारी आज हम आपको देंगे अगर मुख्य उद्योग की बात करें तो मुख्य उद्योग में मुजफ्फरपुर और मोकामा में भारत वैगन लिमिटेड का रेलवे वैगन प्लांट तथा बरौनी में भारतीय तेल निगम का तेल शोधक कारखाना काफी लाभदायक है बरौनी का एचपीसीएल ऑरेंज और कापायराइट फास्फेट और केमिकल लिमिटेड राज्य के प्रमुख उर्वरक नियंत्रण विभाग भागलपुर मोकामा और गया में हैं उत्तर व दक्षिण बिहार में 13 चीनी मिले निजी क्षेत्र की तथा 15 चीनी मिले सार्वजनिक क्षेत्र की हैं जिनकी कुल क्षमता 45000 टन प्रतिदिन टीपीडी है।

चंपारण मुजफ्फरपुर बरौनी में चमड़ा प्रसंस्करण उद्योग हैं कटिहार और समस्तीपुर में तीन बड़े कारखाने हैं हाजीपुर में दवाइयां बनाने का कारखाना है जबकि औरंगाबाद और पटना में खाद प्रसंस्करण और वनस्पति बनाने के कारखाने हैं बंजारी के कल्याणपुर सीमेंट लिमिटेड नामक सीमेंट कारखाने का बिहार के औद्योगिक नक्शे में महत्वपूर्ण स्थान है  हालांकि आपको बता दूं कि सरकार के कुछ नीतियों की वजह से इनमें से बहुत सारी फैक्ट्रियां बंद हो चुकी है।

बिहार के प्रमुख उद्योग और उनके स्थान सबसे पहले बात करते हैं भारत वैगन एंड इंजीनियरिंग लिमिटेड जो की मोकामा में है इसके अलावा जूता कारखाना बाटा इंडिया लिमिटेड मोकामा चमड़ा उद्योग मोकामा, दीघा, गया इसके साथ साथ थर्मल पावर स्टेशन कोयला आधारित बरौनी बिहार स्टेट स्कूटर लिमिटेड उद्योग उद्योग औरंगाबाद, कांच उद्योग पटना रेशम उद्योग, तसर रेशम भागलपुर कच्चा रेशम कटिहार, पूर्णिया, मनोहरपुर इसके साथ बटन सिंदूर लखीसराय बीड़ी झाझा बिहार शरीफ जमुई इसके साथ रेल इंजन मरम्मत जमालपुर और रेल पहिया बेलापुर छपरा।

इसके साथ सूती वस्त्र उद्योग की बात किया जाए तो गया फुलवारीशरीफ, डुमराव, मोकामा पटना मुंगेर भागलपुर मधुबनी और मुजफ्फरपुर इसके साथ साथ सीमेंट उद्योग डालमियानगर वही प्लाइवुड  हाजीपुर जूट उद्योग कटिहार समस्तीपुर चंपारण दरभंगा सहरसा दिया सलाई उधोग कटिहार संभल उद्योग गया पूर्णिया औरंगाबाद एवं मोतिहारी हथकरघा उद्योग मधुबनी भागलपुर बिहार शरीफ गया पटना मुंगेर आदि हैं यह सभी आंकड़े अलग-अलग माध्यमों से लिए गए हैं इसके साथ इनमें से कुछ फैक्ट्री बंद भी हो चुके है क्यों कि ये आंकड़े सिर्फ फैक्ट्री के बारे में  और यह सभी आंकड़े थोड़ी ऊपर नीचे हो सकते हैं।