बिहार में कुल कितने एयरपोर्ट है आप जानकर हैरान हो जाएंगे

0
526

अगर आप से पूछा जाए कि बिहार में कुल कितने एयरपोर्ट है तो आपका जवाब आएगा 3 से चार लेकिन बिहार में बहुत ऐसे एयरपोर्ट है जो आम बिहार के लोगों से छुपी हुई है जिससे आपको जानना बेहद ही जरूरी है यह सभी एयरपोर्ट कभी ना कभी ऑपरेशनल थी और यहां से पूरी देश दुनिया के लिए विमान सेवा शुरू थी लेकिन कुछ कुछ कारणों से इन कुछ  एयरपोर्ट से अभी विमानों का परिचालन नहीं किया जाता है।

रक्सौल एयरपोर्ट सबसे पहले बात करते हैं रक्सौल एयरपोर्ट के बारे में रक्सौल एयरपोर्ट बिहार के रक्सौल में स्थित है आपको बता दूं कि इस एयरपोर्ट को भारत और चाइना के बीच हुए युद्ध के दौरान बनाया था अभी फिलाल एयरपोर्ट का उपयोग भारतीय एयर फोर्स करती है।

जोगबाणि  एयरपोर्ट अब बात करते हैं जोगबाणि  एयरपोर्ट बारे में यह एयरपोर्ट बिहार के अररिया जिले में स्थित है यो एयरपोर्ट कुल 53 एकड़ भूमि में फैला है जो कि अरहरिया के जोगबनी शहर से करीब 5 किलोमीटर की दूरी पर फैला हुआ है हालांकि आपको बता दूं कि यह एयरपोर्ट अभी फिलहाल फंक्शनल नहीं है।

मुंगेर एयरपोर्ट अब बात करते हैं मुंगेर एयरपोर्ट की विधि से सफाया बातें एयरपोर्ट के नाम से भी जाना जाता है आपको बता दूं कि इस रिपोर्ट को फिर से पुनर्विकास जीतन राम मांझी के सरकार में किया गया था जिसके बाद फिर से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार किस सरकार ने इस एयरपोर्ट का उद्घाटन की गई  लेकिन इस एयरपोर्ट से सिर्फ वीवीआइपी विमानों का भी परिचालन किया जाता है।

पूर्णिया एयरपोर्ट अब बात करते हैं बिहार के पूर्णिया एयरपोर्ट के बारे में पूर्णिया एयरपोर्ट के बारे में लोग काफी जानते हैं आपको बता दूं कि पूर्णिया एयरपोर्ट बिहार के पूर्णिया जिले में स्थित है यह अभी फिलहाल वायु सेना के अधीन है आपको बता दूं कि पूर्णिया एयरपोर्ट को फिलहाल अभी उड़ान योजना के तहत 53 करोड़ की लागत से बनाने की योजना है।

भागलपुर एयरपोर्ट बात करते हैं बिहार के भागलपुर स्थित भागलपुर एयरपोर्ट के बारे में जिसे शुरू करने की मांग काफी सालो से चल रही है यह एयरपोर्ट, इंडियन एयरपोर्ट अथॉरिटी के अधीन आता है हालांकि अब तक यह एयरपोर्ट भी फंक्शन नहीं है और यहां से किसी भी प्रकार की बीवीआईपी विमानों का परिचालन भी नहीं होता है एयरपोर्ट को डिवेलप करने के लिए कई तरह के प्रोजेक्ट पर काम किए जा रहे हैं हालांकि यह सभी प्रोजेक्ट अभी तक जमीनी स्तर पर नहीं उतर पाए हैं।

मुजफ्फरपुर एयरपोर्ट अब बात करते हैं मुजफ्फरपुर एयरपोर्ट के बारे में मुजफ्फरपुर एयरपोर्ट बिहार के मुजफ्फरपुर के पताही में स्थित है मुजफ्फरपुर में स्थित पताही एयरपोर्ट को इंदिरा गांधी के आगमन पर इस एयरपोर्ट का निर्माण कराया गया था कभी एयरपोर्ट से विमानों का भी परिचालन किया जाता था यह 1967 से 1982 के बीच में पूरी तरह से फंक्शनल एयरपोर्ट था हालांकि अब यह एयरपोर्ट फंक्शनल नहीं है और इसे डिवेलप करने के लिए लोगों की तरफ से काफी मांग उठ रही है।

दरभंगा एयरपोर्ट अब बात करते हैं दरभंगा एयरपोर्ट की दरभंगा एयरपोर्ट बिहार का नया नवेला एयरपोर्ट है जिसे उड़ान योजना के तहत डिवेलप किया गया है दोस्तों इस एयरपोर्ट को दरभंगा के राजा राजा कमलेश्वर सिंह ने 1950 में शुरू किया था एयरपोर्ट पूरी तरह से ऑपरेशनल था और यहां से देश-विदेश के लिए विमान सेवा आम लोगों को दी जाती थी लेंकिन 1962 के युद्ध के बाद यह एयरपोर्ट ऑपरेशनल नहीं रहा लेकिन उड़ान योजना की से करीब 100 करोड़ की लागत से बनाकर तैयार किया गया है और अब या एयरपोर्ट पूरी तरह से ऑपरेशन है।

बिहटा एयरपोर्ट अब बात करते हैं बिहार के बिहटा एयरपोर्ट के बारे में दोस्तों बिहार का बिहटा एयरपोर्ट पटना के बिहटा में स्थित है बिहटा एयरपोर्ट अभी फिलहाल इंडियन एयर फोर्स के अधीन आता हालांकि इस रिपोर्ट को बिहार का दूसरा इंटरनेशनल एयरपोर्ट बनाने की योजना है इसे खुद को 260 करोड़ की लागत से डिवेलप करने की योजना है

पटना एयरपोर्ट अब बात करते हैं पटना एयरपोर्ट के बारे में दोस्तो पटना एयरपोर्ट बिहार की राजधानी पटना में स्थित है जो कि बिहार की सबसे बिजीएसट  एयरपोर्ट में आता है यह भारत का 16वा सबसे बिजी एयरपोर्ट दी है हालांकि एयरपोर्ट में सालाना पैसेंजर में करीब 30% की बढ़ोतरी देखी गई है इस वजह से इस एयरपोर्ट को रीडिवेलप किया जा रहा है ताकि यात्रियों को ज्यादा से ज्यादा सुविधा मिल सके।

गया एयरपोर्ट अब बात करते हैं गया एयरपोर्ट के बारे में यह एयरपोर्ट बिहार के गया में स्थित है जो कि बिहार का एकमात्र इंटरनेशनल एयरपोर्ट है यह एयरपोर्ट दुनिया के उन एयरपोर्ट से जुड़ा है जहां पर लोग बौद्ध धर्म को फॉलो करते हैं वही आपको बता दूं कि इस रिपोर्ट को और भी बेहतर बनाने के लिए  करीब 100 करोड़ की लागत से इसे रीकंस्ट्रक्ट किया जा रहा है ताकि यहां पर और भी बड़े और जम्बो विमान को भी उतारा जा सके और यात्री सुविधाओं को बढ़ाया जा सके।