बिहार बजट को आम भाषा में समझाइए क्या मिला किसको और क्या नहीं

0
257

बिहार का आज आम बजट पेश हो चुका है आज उपमुख्यमंत्री और वित्त मंत्री तारकेश्वर प्रसाद यादव ने बिहार का 2021 से 2022 का बजट पेश कर दिया हालांकि इस बजट पेशी के दौरान सदन में तार किशोर प्रसाद यादव को विरोध का भी सामना करना पड़ा वही आपको बता दूं कि इस बार का बजट 2 लाख 18 हजार 303 करोड रुपए का है तो चलिए जानते हैं बिहार बजट के प्रमुख बिंदुओं को वह भी बिल्कुल आसान भाषा में।

सबसे पहले इस बार के बिहार बजट में खासकर महिलाओं के ऊपर फोकस किया गया है जिसमें ऐलान किया गया है कि अविवाहित महिला इंटर पास करती है तो उन्हें 25 हजार दिए जाएंगे इसके साथ साथ स्नातक उतीर्ण करती है तो उन्हें पचास हजार दिए जाएंगे पैंतीस प्रतिशत आरक्षण का भी ऐलान किया गया है वहीं महिलाओं को उद्योग के लिए पचास लाख का लोन दिए जाएंगे यह पूरी तरह से कर्ज मुक्त होंगे

वहीं जहां बिहार में सात निश्चय पार्ट वन समाप्त हो चुका है और इसकी पार्ट टू के लिए सरकार ने 4671 करोड़ पर राशि का प्रावधान किया है इसमें खासकर बिहार सरकार ने युवाओं के प्रशिक्षण व्यवस्था रोजगार सृजन करना युवा को उद्यमी बनाने के लिए इसके साथ साथ आईटीआई और पॉलिटेक्निक में गुणवत्ता बढ़ाने की व्यवस्था स्पेशल स्किल और इसके साथ साथ नालंदा में खेल विश्वविद्यालय स्थापना किए जाएंगे।

इसके साथ-साथ बिहार सरकार बजट में बाल ह्रदये योजना में 300 करोड़ की राशि का भी प्रावधान किया है इसके अलावा शहर में लगने वाले जाम से लोगों को मुक्त करने के लिए 200 करोड़ रुपए की राशि का प्रावधान किया गया जिसके तहत शहरों में बाईपास का निर्माण किया जाएगा इसके साथ साथ टेलीमेडिसिन योजना का भी शुरुआत किया गया है वही मछली पालन के लिए पशुपालन को बढ़ावा देने के लिए 500 करोड़ रुपए की व्यवस्था की गई है वही शहरी भूमिहीन लोगों के लिए और शहरों में अंतिम संस्कार के लिए 450 करोड़ का प्रावधान किया गया है।

इसके अलावा गांव में सोलर लाइट के लिए डेढ़ सौ करोड़ रुपए का प्रावधान है वही लोहिया स्वच्छ योजना पार्ट टू के लिए पचास करोड़ की राशि का प्रावधान किए गए हैं कृषि को लेकर हर खेत में पानी उपलब्ध कराने को लेकर 550 करोड़ रुपए का बजट का प्रावधान किया गया है इसके अलावा शहरों को जल जवाब से मुक्ति दिलाने के लिए 450 करोड़ की राशि का प्रावधान किया गया है इसके अलावा बुजुर्ग के लिए आश्रय स्थल बनाने के लिए भी 90 करोड़ की व्यवस्था की गई है वही रोड की बात करें तो गांव की सड़कों को और भी बेहतर बनाने के लिए 250 करोड़ के प्रावधान किए गए इसके साथ साथ सभी शहरों में बाईपास रोड फ्लाईओवर के लिए 200 करोड़ का प्रावधान किया गया है।