सौ किलोमीटर दूर से दृष्टिबाधित शहजादा लेने आया अपनी दुल्हनिया को गया के इतिहासिक विष्णु मंदिर में रचाई शादी

0
293

कहते हैं ना जो रिया आसमान में बनती है कुछ ऐसा ही नजारा देखने को मिला बिहार के गया में जहां पर दो दृष्टिबाधित जोड़ी को भगवान ने मिला दिया दरअसल गया के ऐतिहासिक विष्णु मंदिर में शुक्रवार को एक दृष्टिबाधित जोड़े ने सात फेरा लिया और सात जन्म तक साथ निभाने का एक दूसरे से वादा किया विष्णु मंदिर प्रांगण में इस दोनों की शादी वैवाहिक रीति रिवाज के साथ कराई गई।

1200 किलोमीटर दूर से आया दूल्हा

खबरों के अनुसार पिंकी का दूल्हा गोपाल करीब 1200 किलोमीटर दूर महाराष्ट्र के नागपुर से पहुंचा था गोपाल के माता पिता नाना फूफा और अन्य लोग बराती के रूप में आए थे वहीं दूसरी तरफ इधर पिंकी की मां रेनू देवी के साथ भी नानी भाभी और अन्य परिजन उपलब्ध थे दरअसल यह कहानी जो है कि स्कूल में ही पिंकी की 12वीं तक पढ़ाई ब्रेल लिपि की थी पिंकी की दृष्टि बाधित होने के कारण उनकी मां परेशान रहती थी कि उनकी बेटी की कौन ब्याह रचाए गा इसी दौरान नागपुर के गोपाल के स्वजनों से पिंकी की मां की भेंट हुई गोपाल की दृष्टि बाधित है वह ब्रेन लिपि की पढ़ाई करता है और नागपुर में दुकान चलाता है इस अनोखी शादी की चर्चा पूरे इलाकों मे फैल गई और हर कोई दोनों की सुखद भविष्य की कामना किया।