लॉकडाउन से बिहार सरकारों को भारी राजस्व घाटा 4989 करोड़ का लिया कर्ज

0
658

देश में लॉक डाउन के वजह से पुरे देश लॉक था और साड़ी फैक्ट्री और सभी चीज़ पूर्ण रूप से बंद परी हुई थी जिस वजह से पुरे देश के सभी राज्यों को राजस्वो में घटा हुआ है वही इसी कड़ी में बिहार में भी राजस्वो में घाटा हुआ है इसके साथ बिहार में पिछले चार महीनो में बिहार सरकार ने करीब 4989 करोड़ो रुपए का कर्ज ली है आपको बता दे की इसकी जानकारी खुद डिप्टी सीएम व वित्त मंत्री सुशील कुमार मोदी ने दी है। आपको यह भी बता दू की कल मानसून सत्र भी ज्ञान भवन में था।

 

वही दूसरी तरफ इस मुश्किल के दौर में कई राज्य जैसे तेलंगाना अन्द्र प्रदेश राजस्थान महाराट्र केरला आदि राज्य बिहार से कही न कही बहुत ज्यादा विकसित है लेकिन उन्होंने अपने कर्मचारियों के वेतन और पेंसन से करीब 30 से 50 प्रतिशत की कटौती की है लेकिन बिहार सरकार अपने कर्मचारियों के वेतन और पेंसन में किसी भी तरह की कटौती नहीं की है इसके साथ उन्होंने कुछ आंकड़ों की जानकारी देते हुए कहा है की 31 जुलाई तक 10,732.88 करोड़ वेतन पर, 6168.07 करोड़ पेंशन पर, 2959.04 करोड़ ब्याज के भुगतान व 1816.05 करोड़ ऋण की अदायगी सहित कुल 21,676.94 करोड़ व्यय किया है।

 

 

वही इसके साथ साथ बिहार के डिप्टी सीएम ने यह भी कहा की बिहार ने पिछले चार महीनो में कर्ज लिया है जो की 4989 करोड़ो की है इसके साथ सेहत उन्होंने यह भी कहा की अभी तक बिहार और केंद्र सरकार मिल कर करे 25 हजार करोड़ से ज्यादा का खाद्यान्न व नगद राशि बिहार के लोगो के लिए बाटा गया है आपको बता दू की इस मुश्किल के घड़ी में देश दुनिया की आर्थिक हालात बहुत ही ख़राब हो चूका है जिस वजह से पूरी दुनिया के देश और राज्य कर्ज लेने पर मजबूर है।