बिहार में भारी बारिश के वजह से उत्तर बिहार के 14 ज़िलों में बाढ़ का खतर

0
2611

पुरे देश में जब बारिश और मानसून का मौसम आता है तो लोग बहुत खुश होते है और किसान सबसे ज्यादा खुश होता है लेकिन बिहार में इसके पूरी उलट है बिहार में कही ना कही ना कही मानसून का इंतज़ार आम लोगो और किसानो को होता है लेकिन बिहार के किसानो को इसका भी एक दर सताता है की मानसून उनके लिए बहुत ज्यादा मुस्की भरी समय लाने वाली है और किसनो के बिच मानसून का एक दर बैठा रहता है इसका सबसे बड़ा कारन है बिहार में बाढ़ की हालात।

 

दरसल बिहार में इन दिनों भारी बारिश कई ज़िलों में हो रही है और साथ साथ नेपाल के तराई इलाके में भी भारी बारिश हो रही है जिस वजह से उत्तर बिहार के कई ज़िलों की नदिया अपने खतरों के निशानों के ऊपर बह रही है जिसके बाढ़  बिहार के 14 ज़िलों में बाढ़ का खतरा मडराने लगा है एक तरफ अगर बिहार जल संसाधन विभाग की रिपोर्ट के अनुसार कोसी नदी का डिस्चार्ज शुक्रवार को बराह क्षेत्र में 2.22 लाख और बराज पर 2.36 लाख घनसेक पहुंच गया है। और उत्तर बिहार के कई नदिया लाल निशान के ऊपर बह रहा है जिसमे से गंडक के जल स्तर तेज़ी से बढ़ा है

 

 

जिस वजह से मुजफ्फरपुर, गोपालगंज व सारण इसके साथ साथ पूर्वी व पश्चिमी चंपारण, वैशाली के अधिकारी अलर्ट पर है। इसके साथ साथ बिहार के सहरसा सुपौल और मधुबनी में 24 घंटो में भारी बारिश होने के आसार जताए गए है इसके साथ साथ राजधानी पटना में भी बारिश होने की संभावना जताई गई है और बिहार के कई ज़िलों में बारिश का अनुमान जताई है वही दूसरी तरफ बिहार के इन ज़िलों में बाढ़ का खतरा मढ़रा रहा है जिसमे से सीतामढ़ी मुजफ्फरपुर दरभंगा जयनगर वैशाली गोपालगंज सारण मोतिहारी पूर्वी व पश्चिमी चंपारण आदि ज़िले है