सरकार के दावे खोखले सुरु हो गया बिहारी मजदूर का पलायन

0
371

देश के कोने कोने से लाखो बिहारी प्रवासी मजदूर बिहार अपने घर लौट आए थे लेकिन कहते है ना अगर पेट ना भरे तो इंसान अपने खाना की तलाश में निकल ही परता है आपको बता दू की सरकार ने यह दवा किया था और प्रवासी मजदूरों से यह भी कहा था की आपको कही जाने की जरुरत नहीं हम यहाँ आपको रोजगार देंगे लेकिन यह सारे दावे खोखले साबित होते जा रहे है और सरकार की सारी  दावे फेल होता दिख रहा है बिहार में जो भी प्रवासी मजदूर आए थे वह सभी मजदूर अब फिर से पलायन कर रहे है उनका कहना है कि अगर नहीं कमाए तो वह भूख से ही मर जाएंगे.

 

आपको बता दू की यह मामला सामने आया है बिहार के पूर्णिया जिला से जहा पर लोगो को रोजगार का साधन नहीं मिलने के वजह से मजबूरन अपने परिवार और खुद का पेट  भरने के लिए उन्हें अपने राज्य से बाहर जाना पर रहा है शुक्रवार को प्रखंड क्षेत्र के नितेंद्र पंचायत एवं मच्छटटा पंचायत के करीब 30 मजदूर हरियाणा के लिए पलायन कर गए. पलायन कर रहे कन्हरिया,लरहैया एवं सिमलबाडी के मजदूर सईद,साजिद,मुजफ्फर,परवेज, दिलशाद, तारिक़,मोफिल,इजहारूल आदि ने बताया कि इस ख’तरे को जानते हुए भी परिवारों एवं बच्चों के पेट भरने के लिए मजबूर हो कर बाहर जाना पड़ रहा है. आपको बता दू की इन सब को लेन के लिए हरियाणा के किसान ने अपनी बस भेजी है वहां के बड़े किसान ने सरकार से परमिशन लेकर हमलोगों के लिए बस भेजा है .