चुनाव आयोग के इस एलान के बाद बिहार के सियासी दल टेंशन में

0
518

बिहार में चुनाव होने वाला है और इन दिनों बिहार के राजनितिक गलियारों में चुनाव की सुगबुगाहट तेज़ हो चुकी है और हर दल अपनी तैयारियां में जुट जुट  है इसी बिहस राज्य निर्वाचन आयोग ने बाहर से आए प्रवासी मजदूरों का नाम वोटर लिस्ट में शामिल करने को लेकर विशेष अभियान शुरू करने का एलान किया है. मुख्य निर्वाचन अधिकारी एचआर श्रीनिवासन (Chief Electoral Officer HR Srinivasan) ने ये कहा है की बिहार में विशेष अभियान चला कर प्रवासी मजदूर का वोटर लिस्ट में नाम जुड़ा जाएगा अब यह बात तो साफ हो गया है इस बिहार चुनाव में प्रवासी मजदूरों का भी भूमिका होगी और इनका अहम रोल भी होने वाला है।

 

अब इससे साफ़ है की आने वाले टाइम में प्रवासी मजदूरों को लेकर खूब सियासी दाव खेले जाएंगे दरसल सबसे बरी चुनौती नितीश सरकार की यह है की इन प्रवासी मजदूरों को जल्द से जल्द रोजगार दिलाए अगर सरकार इसमें विफ़ल होती है तो विपक्ष को एक बड़ा मौक़ा मिल जाएगा. सरकारी आकारों के अनुसार एक आकड़ो की माने तो बिहार में अब तक 30 लाख प्रवासी बिहारी बिहार आए थे . हालांकि इनमें से काफ़ी मज़दूरों का नाम पहले से वोटर लिस्ट में जुड़े भी होंगे, पर जो बचे हुए हैं उनके नाम अब जोड़े जाएंगे. यानी बिहार चुनाव के लिए ये मज़दूर काफ़ी बड़ा वोट बेंक साबित होने वाले हैं.