इतने लाखो प्रवासी बिहारी आचुके है पर क्या बिहार में कोरोना और गहरा सकता है ?

0
580

बिहार में प्रवासी बिहारी आ रहे है हर राज्य से प्रवासी बिहारी अपने अपने घर वापसी की तरफ है हर रोज़ प्रवासी श्रमिक ट्रेनों के माध्यम से प्रवासी बिहारी को बिहार लाया जा रहा है जिस वजह से इन प्रवासी मजदूरों में से करीब करीब 1754 कोरोना के मरीज सिर्फ प्रवासी बिहारी को ही है हलाकि अभी बिहार में कोरोना के कुल आकंड़े करीब करीब 2650 ही जो की 50 प्रतिसत से भी ज्यादा है इन आकारों की माने तो अभी तक 411 कोरोना पॉजिटिव मामले दिल्ली से आए प्रवासी मजदूरों के मिले है वही महाराष्ट्र से लौटे 403 जबकि गुजरात से लौटे 278 वही हरियाणा से लौटे 148 राजस्थान से लौटे 95 .

 

 

वही उत्तर प्रदेश से लौटे 89 तेलंगाना से लौटे 81 प्रवासियों की कोरोना को कोरोना ने शिकार बना लिया है वही एक और डाटा पर नज़र डाले तो इसके अनुसार अब तक 24 दिनों में 15 लाख से ऊपर लोगो ने अपने अपने घर की तरफ रुख किया है इसका मलतब यह की 24 दिनों में अब तक 15.36 लाख प्रवासी बिहारियों ने बिहार का रुख किया है केंद्र और बिहार सरकार मिल कर स्पेशल ट्रेनों के जरिए  प्रवासी मजदूर की वापसी की प्लान बनाया जिसके बाद प्रवासी बिहारियों को लाने  का सिलसिला अब तक जारी है।

 

 

आपको यह भी जान लेना चाहिए की अब तक मिली आकंड़ा के अनुसार 25 मई तक कुल ट्रेन जो चलिए गई है श्रमिक स्पेशल ट्रेन वह है 1029 जिसके जरिए बिहार में प्रवासी बिहारी 15 लाख 36 हजार आचुके है जिसमे से 17 ट्रेनों के माध्यम से महाराष्ट्र से 28,250 मजदूर बिहार आ चुके है वही दिल्ली से जो प्रवासी बिहारी आए है वही है 21450 वही तेलंगाना से 8 ट्रेनों के माध्यम से 13200 लोग आए है वही 6 ट्रेनों के माध्यम से राजस्थान से 9905 प्रवासी बिहारी आए है इसके साथ ही आईपीआरडी के सचिव अनुपम कुमार ने बताया है कि बड़ी संख्या में प्रवासी मजदूरों में कोरोना संक्रमण के मामले सामने आ रहे हैं.