स्टार्टअप शुरू करने के लिए इन 54 ट्रेड में बिहार सरकार देगी अनुदान राशि जानिए

0
200

अगर आप भी बिजनेस करना चाहते हैं और अगर आपके पास पैसे नहीं है तो आपको अब चिंता करने की बात नहीं है क्योंकि अब बिहार में आपको स्टार्टअप शुरू करने के लिए बिहार सरकार अनुदान राशि देगी। दरअसल आपको बता दूं कि अब बताया जा रहा है कि बिहार में करीब 54 ट्रेडों के लिए भी बिहार सरकार अनुदान राशि मुहैया करवाएगी। अधिक युवाओं को रोजगार मिल सके इसी को देखते हुए मुख्यमंत्री उद्यमी योजना में 54 ट्रेडों को भी शामिल कर दिया गया है।

आपको जानकारी के लिए बता दूं कि पोर्टल खुलते ही के लोगो के द्वारा ट्रेड बदले गए। 2021 से 2022 में इस योजना के लिए 15,985 लाभुकों में 1885 लोगों को प्रथम किस्त की 4 लाख राशि दी जा चुकी है। उद्योग मंत्री शाहनवाज हुसैन ने बताया कि लेदर और मैन्युफैक्चरिंग से जुड़े उधोगो को बढ़ावा देने से अधिक से अधिक लोगों को रोजगार मिलेगा।

आपको बता दूँ की इसमें जिन ट्रेडो को जुड़ा गया है उसमे मुख्यतः  कॉर्नफ्लैक्स उत्पादन, दाल मिल, चूड़ा उत्पादन, आटा सत्तू व बेसन उत्पाद, पशु आहार उत्पादन, मुर्गी दाना उत्पादन,बीज प्रसंस्करण व पैकेजिंग, मधु प्रसंस्करण, बेकरी उत्पाद, तेल मिल, मसाला उत्पादन, आइसक्रीम उत्पादन, जैम जेली सॉस उत्पादन, फूलों की जूस इकाई, मखाना प्रोसेसिंग, बढ़ईगिरी व लकड़ी फर्नीचर उत्पादन इकाई।

इसके साथ साथ बेंत का फर्नीचर निर्माण, डिटर्जेंट पाउडर साबुन व शैम्पू, डिस्पोजेबल डाइपर सेनेटरी नैपकिंग, ड्राइक्लीनिंग, रेडिमेड वस्त्र निर्माण, कसीदाकारी, बेडसीट तकिया कवर निर्माण, स्टील फर्निचर, स्टील अलमीरा निर्माण, स्टेबलाइजर इनवर्टर यूपीएस सीवीटी एसैम्बलिंग, कूलर निर्माण,नोटबुक कॉपी फाईल फोल्डर उत्पादन, प्लास्टिक सामग्री बॉक्स बोटल्स, स्पोर्टस जूता, पीभीसी जूता चप्पल, गेटग्रिल निर्माण व वेल्डिंग इकाई, हॉस्पिटल बेड ट्रॉली निर्माण इकाई शामिल है।

स्टील का बॉक्स ट्रंक रैक निर्माण,  आईटी बिजनेस केंद्र, वेब सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट एवं डिजाइनिंग, हल्के वाहन के बॉडी निर्माण, रॉलिंग शटर, पैथोलॉजिकल जांच घर,फ्लैक्स प्रिटिंग, कंप्यूटर हार्डवेयर एसेम्बलिंग नेटवर्किंग, ऑटो गैरेज, ढाबा होटल रेस्टोरेंट फुड ऑन व्हील्स, चमड़े के जैकेट्स निर्माण, सीमेंट का जाली दरवाजा खिड़की, फ्लाई एश ब्रिक्स, सीमेंट ब्लॉक व टाइल्स, कंक्रीट ह्यूम पाईप, चमड़े के जूता निर्माण, चमड़े के बैग, बेल्टस, वालेट एवं ग्लोब्स निर्माण, चमड़े व रैक्सीन का सीट कवर निर्माण, कृषि यंत्र निर्माण।