बिहार बोर्ड से पुराने सर्टिफिकेट निकालना हो सकता है महंगा, जानिए कितना देना होगा रकम

0
126

महंगाई चारों तरफ है अगर आप सर्टिफिकेट बिहार बोर्ड से निकालते हैं तो आपको अब पहले की अपेक्षा ज्यादा रकम चुकानी पड़ेगी। आपको बता दूं कि अब पूरे कई सालो के बाद इस रकम को बढ़ाया गया है अब पहले की अपेक्षा आपको ज्यादा रकम सर्टिफिकेट निकालने के लिए पैसे देनी पर सकता है।

बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने उच्च माध्यमिक परीक्षा के लिए विभिन्न कागजात को संशोधित शुल्क जारी कर दिया है। अब 15 वर्ष एवं 15 वर्षों के बाद के सर्टिफिकेट निकालना अब महंगा पड़ेगा 1980 से पहले वाले स्टूडेंट अगर अपना प्रमाण पत्र निकालते हैं तो इससे जुड़े हुए प्रोसेसिंग फीस शुल्क अलग-अलग निर्धारित किए गए हैं। आपको जानकारी के लिए बता दूं कि 2022 के बैठक में यह निर्णय लिया गया है 16 सितंबर को बोर्ड सचिव ने इसे लागू कर दिया है।

दस्तावेज के प्रकार और शुल्क पर एक नजर

  • उत्तीर्णता से दस वर्ष तक 1000
  • शेष के लिए उपर्युक्त कोटि के अनुसार निर्धारित शुल्क 500 रुपये जोड़ा जायेगा
  • परीक्षा का वर्तमान वर्ष 200
  • अवलिंब एवं तत्काल के लिए 2500 (15 वर्ष एवं उससे ऊपर के लिए)
  • उत्तीर्णता वर्ष से 15 वर्ष एवं इससे ऊपर तक 2500
  • उत्तीर्णता से पांच वर्ष तक 500

द्वितीय प्रमाणपत्र के लिए प्रोसेसिंग फीस

  • पुनरीक्षण 120
  • द्वितीय प्रमाण पत्र 175
  • द्वितीय अंक पत्र 125
  • प्रवेश पत्र (परीक्षा उत्तीर्ण होने से अगले दस साल तक) 100 नोट : यह मैट्रिक, इंटर और डीएलएड परीक्षा हेतु संशोधित किया गया शुल्क