बिहार के फैक्ट्री में बना हवाई जहाज इंधन से देश-विदेश के कई विमान भरेंगे उड़ान, जानिए कहाँ बना फैक्ट्री

0
401

बिहार में धीरे-धीरे फैक्ट्री इंडस्ट्री फल फूल रहे हैं जिस वजह से बिहार के कई उत्पाद देश विदेश के लोगों के लिए काम आ रही है इसी के साथ बिहार बिहार में उत्पादित इंधन से देश-विदेश के कई अलग-अलग विमान को ईंधन मिलेगा यह बिहार के लिए बहुत बड़ी बात है।

आपको बता दूं कि इसका उत्पादन क्षमता 50 टन है दरअसल हम बात करें बिहार के बरौनी रिफाइनरी की जहां से बरौनी रिफाइनरी में एटीएस दरभंगा पटना गया और नेपाल के हवाई अड्डे को यहां से इंधन दिया जाएगा आपको बता दूं कि बरौनी रिफाइनरी से निकले इंधन ना सिर्फ देश में बल्कि विदेश जैसे कि नेपाल को भी यह इंधन दिया जाएगा।

बरौनी रिफायनरी में स्वदेशी तकनीक पर आधारित एविएशन टर्बाइन फ्यूल का उत्पादन शुक्रवार से शुरू कर दिया गया है। अभी फिलहाल यहां पर 1 दिन में करीब करीब 50 टन क्षमता का तेल का उत्पादन हो रहा है उधर इसकी जानकारी देते हुए इंडियन ऑयल के अध्यक्ष ऑनलाइन के माध्यम से शुभारंभ किया और इसकी जानकारी भी दी।

बरौनी रिफाइनरी के इन डीजेट यूनिट से बरौनी मार्केटिंग टर्मिनल तक एटीएस जेड 10 के पहले फेज का डिस्पैच का ऑनलाइन शुभआरंभ होते ही बरौनी रिफाइनरी के कार्यालय निदेशक और रिफाइनरी प्रमुख आरके झा ने बरौनी रिफायनरी, बरौनी मार्केटिंग टर्मिनल, बरौनी कानपुर पाइपलाइन, बीटीएमयू एवं आईओए के पदाधिकारियों की उपस्थिति में इपीएफ टैंक 241 के वाल्व को खोलकर मार्केटिंग टर्मिनल को डिस्पैच किया।

इस रिफाइनरी से निकले इंधन से नेपाल को भी बड़ा लाभ मिलेगा एटीएस के अलावा इन पाइपलाइन कंपैटिबल केरोसिन के उत्पादन के लिए भी डिजाइन किया गया है आपको बता दूं कि इन डिजिट यूनिट को जून 2022 में कमीशन किया गया था।

उधर इस अवसर पर एसएम ने बरौनी रिफाइनरी शुभआरंभ करते हुए कहा कि मुझे खुशी है कि इंडियन वाइल्ड कि बरौनी रिफायनरी बिहार के साथ-साथ नेपाल के ऑयल ईंधन की जरूरत को पूरा करेगी यह मेक इन इंडिया के साथ प्रधानमंत्री आत्मनिर्भर भारत के साकार होने से दिशा में एक सार्थक कदम है।